ज्योतिष

कृष्ण जन्माष्टमी

कृष्ण जन्माष्टमी

कृष्ण जन्माष्टमी – श्रीमद्भागवत के अनुसार, भगवान श्री कृष्ण का जन्म द्वापर युग में, भाद्रपद माह में कृष्ण पक्ष के रोहिणी नक्षत्र में हुआ था | उन्होंने भगवान श्री विष्णु के

अंगों पर छिपकली गिरने के संकेत

अंगों पर छिपकली गिरने के संकेत: आम तौर पर छिपकली गिरने से लोग डर जाते हैं और किसी अपशकुन की आशा में, खुद को और भयभीत महसूस करते हैं परंतु मानव जीवन पर छिपकली गिरने का परिणाम

चौघड़िया मुहूर्त

श्रेष्ठ चौघड़िया-अमृत, चर, लाभ, शुभ |
शीघ्रता में कोई भी यात्रा-मुहूर्त ना बनता हो या एकाएक यात्रा करने का मौका आ पड़े तो उस अवसर के लिए विशेष रूप से चौघड़िया मुहूर्त का उपयोग है |

Want to buy Genuine gems- Must Read

Want to buy Genuine gems- Must Read

रत्न (Gems) खरीदने की प्रक्रिया बेहद जटिल और मुश्किल है| जब हमें रत्न खरीदने के लिए बाजार जाना पड़ता है तो उन रत्नों मे हमारे लिए यह पहचानना काफी मुश्किल हो जाता है कि कौन सा रत्न असली है और कौन सा नकली | उदाहरण के लिए, यदि आप किसी बड़े शोरूम में जाते हैं

Happy Journey Tips and Tricks

Happy Journey Tips and Tricks

हिंदू धर्म में किसी भी महत्वपूर्ण कार्य करने के पहले, हम मुहूर्त के बारे में अवश्य विचार करते हैं | शादी व्याह हो या मुंडन, अथवा जनेऊ या घर, ऑफिस का उद्घाटन, सभी क्षेत्र में हम पहले मुहूर्त पर विचार करते हैं,

Chaturyug-Vyavastha

चतुर्युग व्यवस्था

श्रीमद्भागवत पुराण में पुरुषोत्तम भगवान विष्णु से उत्पन्न ब्रह्मा की आयु 100 वर्ष मानी गई है | पितामह ब्रह्मा की आयु का आधा 50 वर्ष पूर्वपरार्ध (प्रथम) तथा उत्तरार्ध के 50 वर्ष को द्वितीय परार्ध कहते हैं | वर्तमान में पूर्वार्ध 50 वर्ष आयु

संवत्सर परिचय – sanvatsar parichay

चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से नव संवत्सर का प्रवेश आरंभ होता है | बुधवार 25 मार्च 2020 से विक्रम संवत 2077 आरंभ हो रहा है | इस विक्रमीय संवत्सर का नाम “प्रमादी” है यह साठ संवत्सरों में रुद्र वीसी के 28वें महायुग का 47वां “प्रमादी” नामक संवत्सर है |

शनि (Saturn): जानिये किन राशियों पर है शनिदेव की कृपा

शनि (Saturn) शुक्रवार 24 जनवरी, 2020 को भारतीय प्रमाणिक समय 9:55 AM मार्गगत्या शनिदेव उत्तराषाढ़ा के निकट के द्वितीय चरण में प्रवेश करेंगे | यतोक्त प्रवेश काल के समय चंद्र मकर राशि मे था | अपनी मार्गगत्या शनि वर्ष पर्यंत इसी मकर राशि में भ्रमणशील रहेंगे |

रक्षाबंधन (Raksha Bandhan)

रक्षाबंधन (Raksha Bandhan) कलाई पर बंधा हुआ यह सुरक्षा का एक वादा है

क्षाबंधन (Raksha Bandhan) हिंदुओं के सबसे बड़े त्योहार के रूप में मनाया जाता है | इसमें बहन भाई को राखी बांंधती है और उसके बदले में भाई, बहन को रक्षा का वचन देता है,