हनुमान चालीसा

हनुमान चालीसा- Chant at least 1’ce a day

Please Subscribe us
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Sree Hanuman Chalisa

श्री हनुमान चालीसा

तुलसीदास द्वारा रचित हनुमान चालीसा आज का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला भजन है| कहते हैं कि हनुमान जी इस कलयुग में हमेशा विचरण करते हैं और दीन-दुखियों की मदद करते हैं इसलिए जो इंसान हनुमान चालीसा पढता है या उनका भक्त है, उसे हनुमान जी उसके कार्यों में सफल करते हैं, यहाँ तक की हर किसी शुभ कार्यों में भी हनुमान जी की आरती अवश्य की जाती है |

शनिवार और मंगलवार हनुमान जी का बिशेष दिन है अतः हनुमान चालीसा का पाठ अवश्य करें, जिससे आप की ग्रह दशा भी कट जाए क्योंकि हनुमान जी से हर ग्रह डरते हैं इसीलिए शनि-ग्रह दशा वाले खास करके शनिवार को हनुमान चालीसा का पाठ अवश्य करें ताकि आपको परेशानी से राहत मिले सके| अतः कोई भी ग्रह दशा आपके ऊपर हावी है और उससे सुरक्षा यदि आप चाहते हैं तो हनुमान जी का जप करें | बजरंग बाण  भी पढ़ें, कभी-कभी समय हो तो सुंदरकांड का पाठ भी अवश्य करें, इससे आपको हनुमान जी का सुरक्षा कवच प्राप्त होगा, आरति कीजै हनुमान लला की सुने :

हनुमान चालीसा
हनुमान चालीसा

॥ दोहा ॥


श्री गुरु चरन सरोज रज, निज मनु मुकुर सुधारि।
बरनउं रघुबर विमल जसु, जो दायकु फल चारि॥

बुद्धिहीन तनु जानिकै, सुमिरौं पवन-कुमार।
बल-बुद्धि-विद्या देहु मोहिं, हरहु कलेश विकार॥

shree guru charan saroj raj, nij manu mukur sudhaari
baranun raghubar vimal jasu, jo daayaku phal chaari

buddhiheen tanu jaanikai, sumiraun pavan-kumaar
bal-buddhi-vidya dehu mohin, harahu kalesh vikaar

॥ चौपाई ॥


जय हनुमान ज्ञान गुण सागर।
जय कपीस तिहुँ लोक उजागर॥

jay hanumaan gyaan gun saagar
jay kapees tihun lok ujaagar.

राम दूत अतुलित बल धामा।
अंजनि-पुत्र पवनसुत नामा॥

Raam doot atulit bal dhaama
anjani-putr pavanasut naama.

महावीर विक्रम बजरंगी।
कुमति निवार सुमति के संगी॥

Mahaaveer vikram bajarangee
kumati nivaar sumati ke sangee.

कंचन बरन बिराज सुवेसा।
कानन कुण्डल कुंचित केसा॥

kanchan baran biraaj suvesa
kaanan kundal kunchit kesa

हाथ वज्र औ ध्वजा बिराजै।
काँधे मूँज जनेऊ साजै॥

haath vajr au dhvaja biraajai
kaandhe moonj janeoo saajai.

शंकर सुवन केसरीनन्दन।
तेज प्रताप महाजग वन्दन॥

shankar suvan kesareenandan
Tej prataap mahaajag vandan

विद्यावान गुणी अति चातुर।
राम काज करिबे को आतुर॥

 Vidyaavaan gunee ati chaatur
Raam kaaj karibe ko aatur.

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया।
राम लखन सीता मन बसिया॥

Prabhu charitr sunibe ko rasiya
Raam lakhan seeta man basiya

सूक्ष्म रुप धरि सियहिं दिखावा।
विकट रुप धरि लंक जरावा॥

 Sookshm rup dhari siyahin dikhaava
Vikat rup dhari lank jaraava.

संकष्टी चतुर्थी व्रत, तिथी व पूजा के महत्व को जाने

भीम रुप धरि असुर संहारे।
रामचन्द्र के काज संवारे॥

Bheem rup dhari asur sanhaare
Raamachandr ke kaaj sanvaare

लाय सजीवन लखन जियाये।
श्रीरघुवीर हरषि उर लाये॥

Laay sajeevan lakhan jiyaaye
Shreeraghuveer harashi ur laaye

रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई।
तुम मम प्रिय भरत सम भाई॥

Raghupati keenhee bahut badaee
Tum mam priy bharat sam bhaee

सहस बदन तुम्हरो यश गावैं।
अस कहि श्री पति कंठ लगावैं॥

 Sahas badan tumharo yash gaavain
As kahi shree pati kanth lagaavain.

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा।
नारद सारद सहित अहीसा॥

Sanakaadik brahmaadi muneesa
Naarad saarad sahit aheesa

यम कुबेर दिकपाल जहां ते।
कवि कोबिद कहि सके कहां ते॥

Yam kuber dikapaal jahaan te
Kavi kobid kahi sake kahaan te

तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा।
राम मिलाय राज पद दीन्हा॥

Tum upakaar sugreevahin keenha
Raam milaay raaj pad deenha.

तुम्हरो मन्त्र विभीषन माना।
लंकेश्वर भये सब जग जाना॥

Tumharo mantr vibheeshan maana
Lankeshvar bhaye sab jag jaana

जुग सहस्त्र योजन पर भानू ।
लील्यो ताहि मधुर फ़ल जानू॥

 Jug sahastr yojan par bhaanoo
Leelyo taahi madhur fal jaanoo.

Listen Hanuman Chalisa on gaana.com

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं।
जलधि लांघि गए अचरज नाहीं॥

Prabhu mudrika meli mukh maaheen
Jaladhi laanghi gae acharaj naaheen

दुर्गम काज जगत के जेते।
सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते॥

Durgam kaaj jagat ke jete
Sugam anugrah tumhare tete

राम दुआरे तुम रखवारे।
होत न आज्ञा बिनु पैसारे॥

 Raam duaare tum rakhavaare
Hot na aagya binu paisaare

सब सुख लहै तुम्हारी सरना।
तुम रक्षक काहू को डरना॥

Sab sukh lahai tumhaaree sarana
Tum rakshak kaahoo ko darana

आपन तेज सम्हारो आपै।
तीनों लोक हांक तें कांपै॥

Aapan tej samhaaro aapai
Teenon lok haank ten kaampai.

भूत पिशाच निकट नहिं आवै।
महावीर जब नाम सुनावै॥

Bhoot pishaach nikat nahin aavai
Mahaaveer jab naam sunaavai.

नासै रोग हरै सब पीरा।
जपत निरंतर हनुमत बीरा॥

Naasai rog harai sab peera
Japat nirantar hanumat beera

संकट ते हनुमान छुड़ावै।
मन क्रम वचन ध्यान जो लावै॥

Sankat te hanumaan chhudaavai
Mann kram vachan dhyaan jo laavai

सब पर राम तपस्वी राजा।
तिन के काज सकल तुम साजा॥

 Sab par raam tapasvee raaja
Tin ke kaaj sakal tum saaja

और मनोरथ जो कोई लावै।
सोइ अमित जीवन फ़ल पावै॥

Aur manorath jo koee laavai
Soi amit jeevan fal paavai.

चारों जुग परताप तुम्हारा।
है परसिद्ध जगत उजियारा॥

Chaaron jug parataap tumhaara
Hai parasiddh jagat ujiyaara.

पंचक के महत्व को समझे और जाने इससे कैसे बचे

साधु सन्त के तुम रखवारे।
असुर निकन्दन राम दुलारे॥

Saadhu sant ke tum rakhavaare
Asur nikandan raam dulaare

अष्ट सिद्धि नवनिधि के दाता।
अस बर दीन जानकी माता॥

Asht siddhi navanidhi ke daata
As bar deen jaanakee maata.

राम रसायन तुम्हरे पासा।
सदा रहो रघुपति के दासा॥

Raam rasaayan tumhare paasa
Sada raho raghupati ke daasa

तुम्हरे भजन राम को पावै।

जनम जनम के दुख बिसरावै॥

Tumhare bhajan raam ko paavai
Janam janam ke dukh bisaraavai

अन्तकाल रघुबर पुर जाई।
जहाँ जन्म हरि-भक्त कहाई॥

 Antakaal raghubar pur jaee
Jahaan janm hari-bhakt kahaee

और देवता चित्त न धरई।
हनुमत सेई सर्व सुख करई॥

Aur devata chitt na dharee
Hanumat seee sarv sukh karee.

संकट कटै मिटै सब पीरा।
जो सुमिरै हनुमत बलबीरा॥

Sankat katai mitai sab peera
Jo sumirai hanumat balabeera

जय जय जय हनुमान गोसाई।
कृपा करहु गुरुदेव की नाई॥

 Jay jay jay hanumaan gosaee
Krpa karahu gurudev kee naee.

जो शत बार पाठ कर सोई।
छूटहिं बंदि महा सुख होई॥

Jo shat baar paath kar soee
Chhootahin bandi maha sukh hoee.

जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा।
होय सिद्धि साखी गौरीसा॥

 Jo yah padhai hanumaan chaaleesa
Hoy siddhi saakhee gaureesa.

तुलसीदास सदा हरि चेरा।
कीजै नाथ ह्रदय महँ डेरा॥

Tulaseedaas sada hari chera
Keejai naath hraday mahan dera.

श्री बजरंग बाण सुने

॥ दोहा ॥
पवनतनय संकट हरन, मंगल मूरति रुप।
राम लखन सीता सहित, ह्रदय बसहु सुर भूप॥

Pavanatanay sankat haran, mangal moorati rup
Raam lakhan seeta sahit, hraday basahu sur bhoop.

हनुमान चालीसा
Listen Chalisa in MP-3

हनुमान चालीसा भजन MP3 सुनने के लिए यहाँ क्लिक करें

हनुमान चालीसा