श्री बजरंग बाण-shree bajarang baan

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
89 / 100

श्री बजरंग बाण-shree bajarang baan- हनुमान जी हम सबके प्रिय भगवान है| इस कलयुग में तो उन्ही का बोलबाला है| वह सबके दिलो में राज़ करते है और लोगो के सबसे प्रिय अतुलित बलधामा है| वह सबके करीब हैं और सबके चहिते भी | वह भगवान श्री राम चन्द्र जी के प्रिय सेवक रहे हैं| सीता मैया की जो सेवा उन्होंने की है वह अतुलनीय है और उनकी क्षमता और पराक्रम से तो सभी वाकिब है| कहते हैं कि यदि हनुमान जी को खुश करना है तो शनिवार को श्री बजरंग बाण और हनुमान चालीसा का पाठ अतिसुख्दायी है और मंगलवार को सम्पूर्ण सुंदरकांड का जप करने से हनुमान जी की कृपा बरसती है|

तुलसीदास द्वारा रचित श्री बजरंग बाण आज का सबसे ज्यादा पढ़ा जाने वाला भजन है| कहते हैं कि हनुमान जी इस कलयुग में हमेशा विचरण करते हैं और दीन-दुखियों की मदद करते हैं इसलिए जो इंसान श्री बजरंग बाण का पाठ करता है या उनका भक्त है| उसे हनुमान जी उनके हर कार्यों में सफलता देते हैं| यहाँ तक की हर किसी शुभ कार्यों में भी हनुमान जी की आरती की जाती है |

आप सब भी श्री बजरंग बाण, हनुमान चालीसासम्पूर्ण सुंदरकांड का पाठ अवश्य करें या YouTube के Video का आनंद लें| आप सब की ग्रह दशा भी कट जाएगी क्योंकि हनुमान जी से सभी ग्रह डरते हैं, इसीलिए शनि-ग्रह दशा वाले खास करके शनिवार को हनुमान चालीसा का पाठ अवश्य करें|

श्री बजरंग बाण-shree bajarang baan
श्री बजरंग बाण-shree bajarang baan

श्री बजरंग बाण-shree bajarang baan

निश्चय प्रेम प्रतीति ते, बिनय करैं सनमान,
तेहि के कारज सकल शुभ, सिद्ध करैं हनुमान,
जय हनुमंत संत हितकारी सुन लीजै प्रभु अरज हमारी,
जन के काज बिलंब न कीजै आतुर दौरि महा सुख दीजै,
जैसे कूदि सिंधु महिपारा सुरसा बदन पैठि बिस्तारा,
आगे जाय लंकिनी रोका मारेहु लात गई सुरलोका
||

श्री बजरंग बाण-shree bajarang baan

जाय बिभीषन को सुख दीन्हा, सीता निरखि परमपद लीन्हा,
बाग उजारि सिंधु महँ बोरा, अति आतुर जमकातर तोरा,
अक्षय कुमार मारि संहारा, लूम लपेटि लंक को जारा,
लाह समान लंक जरि गई, जय जय धुनि सुरपुर नभ भई,
अब बिलंब केहि कारन स्वामी, कृपा करहु उर अंतरयामी,
जय जय लखन प्रान के दाता, आतुर ह्वै दुख करहु निपाता
||

श्री बजरंग बाण-shree bajarang baan

जै हनुमान जयति बल-सागर, सुर-समूह-समरथ भट-नागर,
ॐ हनु हनु हनु हनुमंत हठीले, बैरिहि मारु बज्र की कीले,
ॐ ह्नीं ह्नीं ह्नीं हनुमंत कपीसा, ॐ हुं हुं हुं हनु अरि उर सीसा,
जय अंजनि कुमार बलवंता, शंकरसुवन बीर हनुमंता,
बदन कराल काल-कुल-घालक, राम सहाय सदा प्रतिपालक,
भूत, प्रेत, पिसाच निसाचर, अगिन बेताल काल मारी मर ||

Watch on YouTube Shiva Tandava Stotram

इन्हें मारु, तोहि सपथ राम की, राखु नाथ मरजाद नाम की,
सत्य होहु हरि सपथ पाइ कै, राम दूत धरु मारु धाइ कै,
जय जय जय हनुमंत अगाधा, दुख पावत जन केहि अपराधा,
पूजा जप तप नेम अचारा, नहिं जानत कछु दास तुम्हारा,
बन उपबन मग गिरि गृह माहीं, तुम्हरे बल हौं डरपत नाहीं,
जनकसुता हरि दास कहावौ, ताकी सपथ बिलंब न लावौ ||

श्री बजरंग बाण-shree bajarang baan

जै जै जै धुनि होत अकासा, सुमिरत होय दुसह दुख नासा,
चरन पकरि, कर जोरि मनावौं, यहि औसर अब केहि गोहरावौं,
उठु, उठु, चलु, तोहि राम दुहाई, पायँ परौं, कर जोरि मनाई,
ॐ चं चं चं चं चपल चलंता, ॐ हनु हनु हनु हनु हनुमंता,
ॐ हं हं हाँक देत कपि चंचल, ॐ सं सं सहमि पराने खल-दल,
अपने जन को तुरत उबारौ सुमिरत होय आनंद हमारौ ||

Shree Bajrang Baan

यह बजरंग-बाण जेहि मारै, ताहि कहौ फिरि कवन उबारै,
पाठ करै बजरंग-बाण की, हनुमत रक्षा करै प्रान की,
यह बजरंग बाण जो जापैं, तासों भूत-प्रेत सब कापैं,
धूप देय जो जपै हमेसा, ताके तन नहिं रहै कलेसा,
उर प्रतीति दृढ़, सरन ह्वै, पाठ करै धरि ध्यान,
बाधा सब हर, करैं सब काम सफल हनुमान ||

सुंदरकांड के पाठ के लिए यहाँ क्लिक करे और प्रभु की असीम कृपा प्राप्त करें |

ऑडियो के लिए यहाँ क्लिक करें

Gaana logo 3
श्री बजरंग बाण-shree bajarang baan
×

Table of Contents