Shani Final copy

शनि (Saturn): जानिये किन राशियों पर है शनिदेव की कृपा

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
71 / 100

शनि (Saturn)

शनि (Saturn) : शुक्रवार 24 जनवरी, 2020 को भारतीय प्रमाणिक समय 9:55 AM मार्गगत्या शनिदेव उत्तराषाढ़ा के निकट के द्वितीय चरण में प्रवेश करेंगे | यतोक्त प्रवेश काल के समय चंद्र मकर राशि मे था | अपनी मार्गगत्या शनि वर्ष पर्यंत इसी मकर राशि में भ्रमणशील रहेंगे | प्रत्येक राशि में 1-2-3, जिस स्थान पर शनि का गोचर भ्रमण चल रहा है उसका गोचर फल व उस राशि का पाद फल निम्नलिखित चक्र में देखें:
शनि (Saturn) राशि परिवर्तन के समय चंद्रमा जन्मराशि से
गोचर फल व पाद फल निम्नलिखित चार्ट में राशि के समक्ष अंकित है |

शनि से पूरी शान्ति जरुर पढ़े

शनि (Saturn)
शनि (Saturn)

शनि (Saturn)

शनि (Saturn)

तारीख 24 जनवरी, 2020 से शनि (Saturn) मकर राशि पर मार्ग वक्रगत्या भ्रमण करने की अवधि में :
मेष-सिंह-धनु राशिवालों के लिए शनि (Saturn) का लोहपाद से आगमन कष्टकारी एवं श्रम संघर्ष युक्त है, हर कार्य में बाधा रहेगी |
वृष-कन्या-कुंभ राशिवालों के लिए ताम्रपाद से शनि (Saturn) देव का आगमन सुख समृद्धि दायक होगा |
मिथुन-वृश्चिक-मकर राशिवालों के लिए शनि (Saturn) देव का स्वर्णपाद से आगमन संघर्ष के साथ फलदायक होगा |
कर्क-तुला-मीन राशिवालों के लिए रजतपाद से शनि (Saturn) देव का आगमन सुख- सौभाग्य की वृद्धि करने वाला, साथ ही आर्थिक लाभ एवं उन्नति का मार्ग प्रशस्त होगा |
ता. 24 जनवरी, 2020 से वर्षांत तक शनि (Saturn) इसी राशि में रहेंगे, मेषादि द्वादश राशियों के लिए शनि (Saturn) का गोचरफल:

शनि (Saturn) –देखे किन राशियों को मिलेगी सफलता

मेष राशि के लिए दशम शनि (Saturn) शुभ है किंतु लौहपाद अशुभ है |
विशेष परिश्रम, साहस और पुरुषार्थ से परिवारिक जीवन का निर्वाह, जीविको- पार्जन अध्ययन, व्यवसाय एवं धन लाभ में साधारण सफलता मिलेगी | नौकरी वालों को पदोन्नति एवं स्थानांतरण का योग रहेगा | माता-पिता सुखों की कमी का अनुभव करेंगे | विद्या, शिक्षा के क्षेत्र में सफलता भी मिलेगी | राजनीतिक क्षेत्र में सफलताएं तथा बेरोजगार व्यक्तियों को रोजगार के अवसर भी प्राप्त होंगें |

वृष राशि के लिए– नवम शनि (Saturn) पूज्य है | ताम्रपाद शुभ है | डूबते को तिनके का सहारा मिलेगा | नाना प्रकार की कठिनाइयां और प्रतिबद्धता के रहने पर भी सामाजिक तथा परिवारिक जीवन के निर्वाह में सफल रहेंगे | पारिवारिकजनों में मतभेद लड़ाई-झगड़ों की भी स्थितियां बनेंगी | व्यापारिक असफलताओं का सामना करना पड़ेगा |

मिथुन राशि के लिए– अष्टम शनि (Saturn) अशुभ है | स्वर्णपाद मध्यम है | आक्समिक वाद-विवाद, ऋण एवं दुर्घटनाओं के प्रति सतर्क रहें, अपने इरादों में कामयाब हो सकते हैं | आर्थिक आवागमन, व्यापारिक दिनचर्या तथा नौकरी की गतिविधियां सामान्य रहेगी | भाग्य में उन्नति के शुभ अवसर भी प्राप्त होंगे | आर्थिक लाभ की अच्छी स्थिति बनेगी |

कर्क राशि के लिए– सप्तम शनि (Saturn) पूज्य है | रजतपाद उत्तम है | निश्चित समय पर हर कार्य संपादित करते हुए भी अनेक समस्याओं में रहेंगे, घर गृहस्थी का मध्यम सुख मिलेगा, दांपत्य जीवन कलुषित विचार धाराओं के बीच प्रवाहित होगा | धनाभाव के कारण, महत्वपूर्ण कार्य स्थापित करना होगा | सामान्य जीविका निर्वाह, कर्तव्य पालन में तथा स्त्री बच्चों के स्वास्थ्य में बाधा रहेगी |

सिंह राशि के लिए– छठा शनि (Saturn) शुभ है | लौहपाद अशुभ है | परिवारिक उत्पीड़न, स्वजनों से असहयोग, कळह और दुश्चिंता होते हुए भी कर्तव्य पालन में तटस्थ रहेंगे | प्रभाव प्रतिष्ठा की रक्षा होगी | आरोग्य व व्यवसाय पक्ष मध्यम रहेगा |सामाजिक मान-सम्मान की प्राप्ति होगी |

कन्या राशि के लिए– पंचम शनि (Saturn) पूज्य है | ताम्रपाद उत्तम है | आर्थिक परिश्रम एवं निजी सूझबूझ से कार्यों में आंशिक सफलता, ॠण चिंता, परिवारिक और व्यवसायिक स्थिति सामान्य रहेगी | इष्ट-देव की आराधना में तत्पर रहें | किसी अनिष्ट की आशा नही है | पिता से विवाद की स्थितियां बनेंगी | स्वास्थ्य संबंधी कष्ट और परेशानियां भी हो सकती है |

तुला राशि के लिए– चतुर्थ शनि (Saturn) अशुभ है | रजतपाद शुभ है | परिवारिक समस्याओं से वंचित रहेंगे | आर्थिक लेन-देन में कटु अनुभव होगा | वाद-विवाद एवं न्यायालयीय परेशानियों में अधिक समय व्यतीत होगा | उन्नति के क्षेत्र में अग्रसर होंगे | हर क्षेत्र में लाभ की स्थितियां बनेंगी | धार्मिक कार्यों में रुचि बढ़ेगी|

वृश्चिक राशि के लिए– तृृृृतीय शनि (Saturn) उत्तम है | स्वर्ण पाद मध्यम है | साहस, पराक्रम, पुरुषार्थ की वृद्धि, भाग्य, कर्म, प्रारब्ध का सहयोग मिलेगा | नौकरी व्यवसाय की आर्थिक स्थिति सुदृृढ़ रहेगी | परिवारिक सदस्यों में कुछ मतभेद की स्थिति बन सकती है | श्र्मानुकूल धन का लाभ भी हो सकता है |

धनु राशि के लिए– द्वितीय शनि (Saturn) पूज्य है | स्वर्णपाद माध्यम है | संकल्पित कार्यों में अवरोध, विरोध, निकट संबंधियों से मनमुटाव, पत्नी के परामर्श से रक्षा होगी आर्थिक व्यवसायीक स्थिति चिंंतनीय होगी | दांपत्य जीवन को आध्यात्मिक लाभ मिलेगा, जातक को अधिक कठिनाइयों का सामना करना पड़ेगा | हृदय पर बीच की ढैय्या जातक को कष्ट प्रदान कर सकता है |

मकर राशि के लिए-जन्मस्थ शनि (Saturn) पूज्य है | स्वर्ण पाद माध्यम है | संकल्पित कार्यों में अवरोध-विरोध, निकट संबंधियों से मनमुटाव, बाहरी सहयोग की प्राप्ति एवं देव-कृपा से धन-धर्म, मान-सम्मान की रक्षा होगी | मंगल की दृष्टि पड़ने से वाहन से कष्ट होगा | अनावश्यक जोखिम न उठाएं | आर्थिक स्थिति कमजोर रहेगी |

कुंभ राशि के लिए– लाभस्थशनि (Saturn) शुभ है | रजत पाद से शनि का आगमन श्रेष्ठ प्रभावी रहेगा | सामाजिक जीवन में सफलता, मान, यश, प्रतिष्ठा की वृद्धि होगी |आर्थिक लाभ के अवसर प्राप्त होंगे | धार्मिक कार्यों में रुचि, शैक्षिक व बौद्धिक क्षेत्र में सफलता प्राप्त करेगेें | अधिक दौड़-धूप तथा पारिवारिक संघर्ष की वृद्धि होगी |

मीन राशि के लिए– एकादश शनि (Saturn) और रजतपाद दोनों उत्तम है | भाग्योदय-कर्मोदय, चल-अचल संपत्ति का विकास, पदोन्नति, धन संचय, आवश्यक यात्राएं घर-गृहस्थी, समाज-परिवार में अधिकांश अनुकूलता मिलेंगी | प्रयत्न, परिश्रम से हर क्षेत्र में प्रतिष्ठा, प्रभाव कायम कर सकते हैं |

शनि (Saturn)

शनि की साढेसाती तथा ढैय्या संवत् 2078 : इस बार वर्ष पर्यंत शनिदेव मकर राशि पर रहेंगे अतः धनु, मकर तथा कुंभ राशि वालों के लिए शनि की साढ़ेसाती रहेगी | मिथुन और तुला राशि वालों के लिए शनि की ढैय्या रहेगी | धनु राशि वालों के लिए पैर पर, मकर राशि वालों के लिए ह्रदय पर तथा कुंभ राशि वालों के लिए सिर पर, शनि की साढ़ेसाती रहेगी |

जिन राशिवालों के ऊपर शनि की ढैय्या व साढ़ेसाती चल रही हो उन्हें सुंदरकांड, रामायण या हनुमान चालीसा का नित्य पाठ तथा शनि का व्रत करना चाहिए | शनिवार को प्रात: काल पीपल वृक्ष में जल दान तथा सायं काल दीप दान करना चाहिए काले घोड़े की नाल की अंगूठी शनिवार को मध्यम अंगुली में धारण करना चाहिए | शनिवार का व्रत तथा शनि का दान  करना चाहिए | शनिवार व्रत-कथा जरुर सुने, यह शान्ति के लिए अतिअवाश्यक है |

शनिवार व्रत कथा