नवरत्न

ग्रहों के अनुकूल नवरत्न- Best Genuine Gems

Please Subscribe us
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नवरत्न (Gems) खरीदने की प्रक्रिया बेहद जटिल और मुश्किल है | जब हमें नवरत्न खरीदने के लिए बाजार जाना पड़ता है तो उन नवरत्नों मे हमारे लिए यह पहचानना काफी मुश्किल हो जाता है कि कौन सा नवरत्न असली है और कौन सा नकली |

उदाहरण के लिए, यदि आप किसी बड़े शोरूम में जाते हैं तो वहां नवरत्न की कीमत सीधी डबल हो जाती है और वैसे भी नवरत्न बेहद कीमती होते हैं| अतः वह तो वैसे ही लूट लेते हैं| मान लिया कि उनके नवरत्न असली हैं, परंतु दाम के अनुसार यदि रत्न हमें डबल रेट में पड़ता है तो हमारे लिए यह प्रक्रिया गलत है क्योंकि ये शोरूम वाले भी किसी न किसी होलसेल वालों से रत्न की परचेसिंग करते हैं और वह सीधा 10 का 20 कर देते हैं|

ग्रहों की शान्ति के लिए कालभैरवाष्टकम् स्तोत्रं को अवश्य पढ़े, क्लिक करें

नवरत्न
ग्रहों के रत्न

नवग्रह स्तोत्रं का नित्य पाठ आपको हर ग्रहों से सुरक्षा प्रदान करता है

ऐसे में हर व्यक्ति के लिए यह अफॉर्डेबल नहीं होता कि वह नवरत्न खरीदकर धारण कर सके और रही बात होलसेल मार्किट की, तो वहां पूरा का पूरा फ्रॉड भरती है हालाँकि ऐसा नहीं है कि सभी फ्रॉड हैं पर यह आपके किस्मत पर है कि आप किसके पल्ले पड़ते हैं|

हमने कई वेबसाइटों पर आर्टिकल देखे, जिन्होंने नवरत्न पहचाने की प्रक्रिया पर बड़े-बड़े आर्टिकल लिख दिए हैं| आप यदि उनके लिखे आर्टिकल को भी फॉलो करे तो मेरा यह चैलेंज है कि आप फिर भी धोखा खा जायेंगें क्योंकि हमे सही रत्न के साथ-साथ सही मूल्य भी चाहिए|

श्री पंचांग (Sree Panchang) 2021 पढ़े और जाने सभी व्रत, तिथी और त्यौहार के बारे में

आजकल रत्नों के नाम पर लूट का बोलबाला है| इमिटेशन बाज़ार मे भरे पड़े हैं| जालसाजों के लिए, किसी भी रत्न का हूबहू इमिटेशन तैयार करना, एक बहुत सरल प्रक्रिया है, अतः आपको पूरा सजग रहना पड़ेगा|

दुकानदार आपसे ये कहेंगे कि आप इस नवरत्न को ले जाईये, अपने ज्योतिष को दिखाइए और नहीं समझ में आये तो आप बदल सकते हैं, बस यही काम कभी मत करियेगा क्योंकि एक बार नवरत्न ले लेने के बाद यदि आप एक्सचेंज में जाते हैं तो फिर आपको उसका डेढ़ से दूगुना दाम देना ही पड़ेगा और उसके बाद आप उसके चंगुल में आ जायेंगे क्योंकि वह आपको रुपये वापस नहीं करेगा और एक्सचेंज में अपनी पूरी मनमानी करेगा|

पंचक के महत्व को समझे और जाने इससे कैसे बचे

अतः बेहतर है कि आप वह नवरत्न ना खरीदें और खरीदना हो तो ऐसे जगह से खरीदें, जहां से आपको रुपये वापस मिल जाए, परन्तु ऐसा संभव नहीं, कोई नहीं रूपए वापस करेगा और जान-पहचान वालों पर आप भरोसा नहीं कर सकते क्योंकि उनसे ख़रीदा हुआ नवरत्न आप वापस करेंगे तो आपके सम्बन्ध बिगड़ जायेंगे|

गृह के अनुसार रत्नों की पहचान :

रत्नों की पहचान तथा उसके धारण से होने वाले शुभ फल तथा ग्रहों के अनिष्ट फलों को रोकने के लिए विभिन्न रत्नों को धारण करने का फल प्रत्यक्ष होता है| रत्न 9 प्रकार के होते हैं- मूल्यवान और अल्प मोली भी, सुलभ और दुर्लभ भी ज्योतिष विद्या के आधार पर रत्नों का अनुकूल चयन और उनकी धारणीय विधी बहुत महत्वपूर्ण है| कौन-सा रत्न किस स्त्री-पुरुष के लिए उपयोगी और फलदायी है तथा कौन सा अशुभकारक बन सकता है| यह आलेख आप सब पाठकों के लिए के बीच प्रस्तुत है|

Enjoy the Best devotional Song of Jaya Kishori- मीठे रस से भरयोड़ी राधा रानी

माणिक (Ruby): यह सूर्य ग्रह का रत्न है| यह सिंदूर जैसे रंग का लाल, कमल दल जैसे गुलाबी रंग का चिकना, चमकदार, पारदर्शक तथा लाल रंग का प्रकाश पुंज उत्सर्जक होता है| जन्म कुंडली में अथवा हथेलियों में सूर्य ग्रह शुभ को अथवा शुभ भावों का अधिपति हो तो यह रत्न धारण करें| यदि सूर्य तीसरे, छट्ठे, ग्यारहवें भाव में हो तो यह रत्न धारण किया जा सकता है| यदि जन्म लग्न मेष, सिंह, ब्रिश्चिक और धनु हो तो यह रत्न धारण करना लाभकारी है|

Ruby endows longevity and success

जन्मपत्रिका में सूर्य पंचम, नवम तथा सप्तम भाव में भी हो तो यह रत्न धारण करने से वैवाहिक जीवन की बाधाएं दूर होकर मान-सम्मान, यश-लाभ तथा पद वृद्धि प्राप्त होती है विवाह-संपादन में बाधा, सफेद दाग, गर्भपात, पद-प्रतिष्ठा में मानहानि हो तो भी यह रत्न धारण करें| यह कम से कम 3 रत्ती का हो| इसे सोना या तांबा में जड़वा कर अनामिका उंगली में रविवार को धारण करें|

नवरात्रि 2021 की महत्वपूर्ण तिथियाँ, भक्ति गीत व समस्त विवरण जाने

मोती की विशेषता (Pearl) : यह चंद्र ग्रह का रत्न है| मोती एक विशेष सीप नामक जलीय जंतु के गर्भ से प्राप्त होती है| यह सुंदर, सफेद, कंकड़ गोल तथा अपारदर्शी ठोस रत्न है| यदि जन्म पत्रिका में चंद्रमा सूर्य के साथ युक्ति कर रहा हो, जन्मपत्रिका में चंद्र निर्बल, क्षीण हो, नीच का हो, अस्तगत हो अथवा राहु के साथ योग करते हुए ग्रहण योग बना रहा हो तो उस परिस्थिति में रत्न धारण करना लाभकारी एवं शांतिदायक माना जाता है|

Pearl brings the life of prosperity and luxury

जन्म लग्न मेष, कर्क, वृश्चिक राशि में चंद्रमा हो तो यह रत्न धारण किया जा सकता है| यह रत्न धारण करने से मानसिक तनाव दूर होकर विद्या बुद्धि, देश देशांतर भ्रमण का सौभाग्य तथा प्रचुर धन लाभ प्राप्त होता है| यह रत्न कम से कम पांच से सात रत्ती चांदी में जड़वाकर कनिष्ठा उंगली में सोमवार को धारण करें|

खाटू श्याम नरेश की पसंदीदा आरती गाएं और लिरिक्स का भी आनंद प्राप्त करें

मूंगा (Coral Gemstone): यह मंगल ग्रह का रत्न है| यह गेरुआ, सिन्दुरिया, हिन्गुआ वर्ण तथा गहरे लाल रंग का चिकना चमकदार अपारदर्शक ठोश रत्न है| यह कोरल नामक जलीय जंतु के द्वारा समुद्र से प्राप्त होता है| जन्मपत्रिका में मंगल, मेष, सिंह, ब्रिश्चिक, धनु राशि में हो तो यह रत्न माना गया है|

Coral imparts courage

मंगल लग्न, चतुर्थ, षष्ट, सप्तम, अष्टम और द्वादश भाव में विराजमान हो तो यह रत्न धरणीय लाभकारी माना जाता है| यह रत्न धारण करने से जीवन में सभी भौतिक सुख, मान-सम्मान, यश-लाभ तथा पद वृद्धि तथा दांपत्य जीवन में बाधा, बार-बार दुर्घटना होती हो तो यह रत्न धारण करना चाहिए| यह कम से कम 6 रत्ती का चांदी में जड़वाकर अनामिका उंगली में धारण करें|

कृष्ण जन्माष्टमी 2021 में कब है जाने

पन्ना (Emerald): यह बुध गृह का रत्न है| यह हरा रंग का चिकना, चमकदार, पारदर्शक हरा रंग के किरणों का उत्सर्जक होता है| यदि जन्म राशी मिथुन, कन्या, तुला और मकर हो तो यह रत्न धारण करें| जन्मपत्रिका में बुध ग्रह 1, 2, 3, 4, 5, 6, 9, 10 और 11 भाव में विराजमान हो तो यह रत्न धारण करना परम लाभकारी माना गया है|

 Emerald gemstone endows strength and security to the wearer

यदि मिथुन, कन्या, तुला, मकर और कुंभ लग्न में जन्म हो तो यह रत्न धारण करने से परिवारिक सुख शांति, उद्योग व्यापार में धन लाभ, विद्या वृद्धि तथा भाग्योन्नति में सहायक होता है| यह रत्न कम से कम 5 रत्ती का हो, इसे सोना या चांदी में जड़वाकर कनिष्ठिका उंगली में बुधवार को धारण करें|

Enjoy the 5 benefits of Mahishasura Mardini Stotram

पोखराज (Yellow Sapphire): यह बृहस्पति ग्रह का रत्न है| यह रत्न प्राचीन ग्रंथों में पीली कनेर के समान पीत वर्ण सुंदर रंग का चिकना, चमकदार, पारदर्शक तथा प्रकाश पुंज का उत्सर्जन एवं मनमोहक रत्न हैं| जन्मपत्रिका में मेष, कर्क, सिंह, वृश्चिक, धनु और मीन जन्म लग्न हो तथा जन्म राशि कर्क, सिंह, वृश्चिक, धनु और मीन हो तो यह रत्न आजीवन लाभकारी माना गया है| यदि गुरु जन्मपत्रिका में कहीं भी नीच राशि में हो, स्वगृहि हो तो यह रत्न धारण करने से उसकी शक्ति बढ़ाने में सहायक होता है|

 Yellow Sapphire is a stone that improves the financial status

जन्मपत्रिका में 1, 4, 5, 7, 9, 10 और 11 भाव में गुरु बैठा हो तो यह रत्न धारण करने से प्रतियोगिता में सफलता, शीघ्र विवाह, संपादनन, पुत्र-प्राप्ति, उद्योग-व्यापार में प्रचुर लाभ, नौकरी में पद वृद्धि होती है एवं जातक आजीवन वैवाहिक जीवन जीनें का आनंद लेता हैं| यह कम से कम 5 रत्ती का हो, इसे सोने में जड़वाकर तर्जनी उंगली में गुरुवार को धारण करें|

नवग्रहों के रत्न, धातु, मंत्र और जप की संख्या के बारे में जाने और उसका लाभ उठायें

हीरा (Diamond): यह नौ-रत्नों में राजा कहलाता है| यह शुक्र ग्रह का रत्न है| यह रत्न श्वेत वर्ण का होता है| जिससे हल्की, नीली, आभा निकलती है यह सतरंगी किरणो का उत्सर्जक होता है| यह चिकना और चमकदार रत्न है| अपनी शोभा के लिए यह विश्व प्रसिद्ध रत्न है| जन्मपत्रिका में शुक्र, वृष, मिथुन, कन्या, तुला मकर राशिगत हो, शुक्र 1, 4, 9, 10 और 11 भाव में विराजमान हो तो यह रत्न कल्याणकारी माना गया है|

Diamond endows the wearer with power, wealth, and success over enemies

यदि वृष, कन्या, तुला, मकर और कुंभ लग्न में जन्म हो तो यार कल्याणकारी माना गया है यदि वृष कन्या तुला मकर और कुंभ राशि में जन्म हो तो यह रत्न धारण करने से भौतिक सुख, आरोग्य-लाभ, भूमि, भवन, वाहन का सुख लाभ देकर, गुप्त रोग तथा पर-स्त्री गमन, रुचि, दूर कर दांपत्य जीवन में अनुराग लाता है| यह कम से कम डेढ़ या दो रत्ती का होना चाहिए| इसे सोना में जड़वाकर तर्जनी या अनामिका उंगली में शुक्रवार को धारण करें|

2021 के हर व्रत और त्योहारों के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त करें

नीलम (Blue Sapphire): यह शनि ग्रह का रत्न है| यह इन्द्र धनुष के बीच के नीले रंग के समान होता है| यह हल्का नीला, बैगनी आभायुक्त भी होता है| सर्वश्रेष्ठ नीलम मोर के गर्दन के रंग का सर्वोत्तम माना जाता है| यह चिकना, चमकदार और पारदर्शी रत्न है| शनि नव-ग्रहों में सबसे मंद गति वाला, क्रूर, कष्टदायक, कुख्यात और त्रासद ग्रह है|

Blue Sapphire Gemstone signifies love and wealth

जन्म पत्रिका में जन्म राशि तुला, मकर और कुंभ हो, जन्म लग्न में मेष, तुला, मकर और कुंभ राशि में हो तथा जन्मपत्रिका में शनि कहीं भी मेष तुला मकर और कुंभ राशि में हो तो यह रत्न धारण करने से पद-प्रतिष्ठा, धन-लाभ, भूमि-भवन, वाहन का सुख, सौभाग्य प्राप्त होता है| इसके धारण से कठिन रोग, शोक, दुश्चिन्ता दूर होकर मनुष्य सुखपूर्वक न व्यतीत करने लगता है| यह कम से कम 5 रत्ती का हो तो इसे चांदी में बनवाकर मध्यमा अंगुली में शनिवार को धारण करें|

Onyx is for health and longevity

गोमेद (Onyx Gemstone): यह राहु ग्रह का रत्न है| यह पीला, गोमूत्र के साथ ही श्यामलता लाली मिश्रित चिकना चमकदार, पारदर्शक रत्न है| कुटिल मनोवृति, जातक को भ्रष्ट बुद्धि, क्रूर और विक्षिप्त बना देता है यदि संजोग से किसी के जन्म पत्रिका में इसकी स्थिति शुभ हो तो यह रत्न राजयोग भी उपस्थित कराता है| यह जन्मपत्रिका में 1, 4, 5, 7, 9 और 11 भाव में हो तो यह रत्न धारण करें| यह कम से कम 4 रत्ती का हो, इसे सोना या चांदी में जाड़वाकर मध्यमा अंगुली में शुक्रवार को धारण करें|

किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत करने के पहले राहुकाल 2021 के वक़्त का अध्ययन करें

लहसुनियां (Cat’s Eye Gemstone): यह केतु रत्न है| राहु के समान ही केतू भी किसी राशि का स्वामी नहीं होता| लहसुनिया पीले, भूरे, काले, हरे, श्वेत रंगों में पाया जाता है| लहसुनया में एक ओर से दूसरे ओर तक सूत जैसी धारी होती है| जिसमें विशेष प्रकार की चमक होती है| इसी चमक के कारण अंग्रेजी में “कैट आई”अर्थात बिल्ली की आंख कहा जाता है|

 Cat’s eye protects from disease and danger

विश्व में श्रेष्ठ है लहसुनिया लंका का माना जाता है| यदि केतु लग्न द्वादश, एकादश या नवम भाव में हो, केतु लग्न एवं चंद्रमा दोनों केंद्र या त्रिकोण में हो, भूत बाधा, आतंक, दुर्घटना, अज्ञात-भय, भूत-प्रेत, जादू-टोना आदि में लहसुनिया कम से कम 5 से 7 रत्ती का चांदी में जड़वाकर केतु मंत्र से अभिमंत्रित कर बुधवार को मध्यमा उंगली में धारण करें|

नवरत्न लॉकेट (Navratna gemstone)

नौ-रत्न के लॉकेट में नौ ग्रहों के नवरत्न एक साथ जड़े जाते हैं| किसी भी नर-नारी को अपनी जन्म राशि का ज्ञान ना हो| जन्मपत्रिका में ग्रहों की स्थिति ऐसी हो कि उपर्युक्त ग्रह का रत्न चयन करने में कठिनाई हो तो नौ-रत्न लॉकेट धारण किया जा सकता है| इसे धारण करने से सुख-शांति, सौभाग्य, मान-सम्मान, वैभव की प्राप्ति होती है|

नव ग्रहों और रत्नों की स्थिति जाने