नवग्रह

नवग्रह और उपाय- The 1 and the best way to appease

Please Subscribe us
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
नवग्रह

नवग्रह न केवल जातक के भविष्य का निर्धारण करते हैं बल्‍कि जातक के जीवन में अच्छे और बुरे कार्य का पल-प्रतिपल आदान-प्रदान भी करते हैं। ग्रह जातक के पूर्व कृत कर्म के आधार पर रोग, शोक, और सुख, ऐश्वर्य का भी प्रबंध करते हैं। नवग्रह मंत्र का जप पूरी विधि और नियम के अनुसार करने से सभी देवता प्रसन्न रहते हैं |

 

ज्योतिष के अनुसार, इस पूरे ब्रह्मांड में नौ ग्रह मौजूद हैं | उनके अनुसार सौर्यमंडल में पृथ्वी, सूर्य, चंद्रमा, मंगल, बुध, शुक्र, शनि, राहु और केतु इन सबको मिलाकर नौ-ग्रह हैं | ये मनुष्यो की हर एक इच्छाओं को तृप्त करने में सहायक हैं | शांति के लिए, आपको इनके हर एक मंत्र का संख्या के आधार के हिसाब से जप करना अतिअवाश्यक है | तभी आप इन ग्रहों से सुरक्षा प्राप्त कर सकते हैं | आपके दोष दूर होंगे |

 

नवग्रह मंत्र का जप करने के लिए विधि-विधान से स्नानादि से निवृत्त होकर ज्योतिष के अनुसार ही आप इनका जप करें | नवग्रह मंत्र का जप अति फलदायक है | नीचे दिए गए मंत्र का पाठ, संख्या के अनुसार करने से जो व्यक्ति ग्रहों के परेशानी और विपद का शिकार है, वह हर विपद से मुक्ति अवश्य पाएगा | इन मंत्रो का जप उनकी संख्या के अनुसार, तथा दान, द्रव्य आदि का पालन ठीक से किया जाये तो लाभ निश्चित है |

 

आपको ग्रहों के परेशानी से मुक्ति मिल पाए | अतः आप इसका लाभ प्राप्त करें | पीड़ित जातक को चाहिए कि वह पीड़ित ग्रह के दंड को पहचान कर उक्त ग्रह की अनुकूलता हेतु, उक्त ग्रह का रत्न भी धारण करें और संबंधित ग्रह के मंत्र का जप करे तथा पीड़ित ग्रह के नियम अनुसार दान, द्रव्य आदि उनके समय के हिसाब से अवश्य करे तो जातक अवश्य सुख की प्राप्ति कर सकता है। साथ में जातक संबंधित ग्रह के रत्न की माला से जप करें तो जातक प्रसन्न व संपन्न होगा।

 

नवग्रह स्तोत्र का जप करने से, इस ब्रह्मांड में स्थित समस्त नौ-ग्रह, सभी शांत रहते हैं और प्रसन्न होकर जप करने वालें को अपना आशीर्वाद प्रदान करते हैं | नवग्रहों से शांति और पीड़ा से बचने का सबसे सरल और सटीक उपाय है, नवग्रह यंत्र की स्थापना और पूजा। संपूर्ण नवग्रह यंत्र की स्थापित करने से कुंडली में ग्रह-दोष के प्रभाव भी कम होने लगते है। जानिए नवग्रहों के रत्न, धातु, मंत्र और जप की संख्या के बारे में, जिसके आधार पर आप प्रत्येक ग्रह के दोष को आसानी से दूर कर, उन्हें प्रसन्न कर सकते हैं |

नवग्रह-यन्त्र

नवग्रह

ग्रहों के अनुसार, दान, द्रव्य, समय और जप की संख्या

नवग्रह और उपाय
नवग्रह और उपाय
नवग्रह और उपाय
नवग्रह और उपाय
नवग्रह और उपाय
नवग्रह और उपाय
नवग्रह और उपाय
नवग्रह और उपाय
नवग्रह और उपाय