छिपकली गिरना

अंगों पर छिपकली गिरना- Maybe a Great News for you in 2021

Please Subscribe us
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Please select your preferred language on the top right Bar

Signs of lizards falling on limbs

छिपकली गिरना: आम तौर पर छिपकली गिरने से लोग डर जाते हैं और किसी अपशकुन की आशा में, खुद को और भयभीत महसूस करते हैं, परंतु मानव जीवन पर छिपकली  गिरने का परिणाम, कहीं शुभ और  कहीं अशुभ माना गया है | नीचे दिए गए विवरण के अनुसार आप जान सकते हैं कि आपके किस अंग पर छिपकली गिरने के क्या परिणाम है | उसके लाभ और हानि का विस्तृत उल्लेख नीचे दिया गया है ।

छिपकली गिरना
अंगों पर छिपकली गिरना

छिपकली एक ऐसा जीव है जो हमें थोड़ी सी भी क्षति नहीं पहुंचाता है | फिर भी, लोग उसे देखकर डर जाते हैं हालांकि वह खुद भी मनुष्य से डरता है | परंतु यह फिर भी हमारे घर के अंदर दाखिल हो जाता है, बिना किसी रोक-टोक के | इसकी वजह से, हमारे घर की ज्यादातर महिलाएं या बच्चे इस देखकर डर जाते हैं और यदि यह किचन में चला जाए तो और भी बड़ी आफत आ जाती है क्योंकि उसे वहां से भगाना आसान नहीं होता है | एक बड़ी वजह यह भी है कि इसका पूंछ बहुत नरम होता है और थोड़ा भी चोट लगने से इसकी पूंछ टूट जाती है |

खासकर, जो व्यक्ति जीव हत्या से डरता है | वह भयभीत हो जाता है | यदि इसे कहीं से भी बाहर निकालना पड़े तो उसे बड़ी सूझबूझ के साथ बाहर निकालना पड़ता है | यह एक अवमानना है कि किसी वयक्ति विशेष पर छिपकली का गिरना शुभ संकेत नहीं है | परन्तु यह सत्य नहीं है | यह निर्भर करता है कि छिपकली शरीर के किस भाग में गिरती है | उसकी बुनियाद पर इसकी सच्चाई का आकलन किया जाता है |

गांव या दूरदराज के क्षेत्रों में छिपकली को माता लक्ष्मी जी से जोड़ा गया है परंतु इसमें कितनी सच्चाई है हमें नहीं पता | हालांकि यह सच है कि हमें इसे मारना नहीं चाहिए क्योंकि यह किसी का कुछ बिगाड़ता नहीं है | अतः हमें यदि इसे घर से बाहर निकालना हो तो किसी तरह के निर्दयता और अत्याचार से बचे | यह सिर्फ रोशनी को देखकर और कीड़े मकोड़े खाने के लिए ही घर मे घुसता है | आइये हम उन परिणामों का अधययन करें |

Result of Lizard falling on different parts of our Body

ललाट पर = स्थान लाभ
केशांत = मरण कष्ट
मस्तक = राज्य प्राप्ति
केश बंध = रोग भय
दाहिना कान = भूषण प्राप्ति
बायाँ कान = आयु वृद्धि
नाक = सौभाग्य लाभ
मुख = मधुर भोजन
नासाग्र = व्यसन विग्रह
बाँया गाल = इष्ट मित्र मिलन
दाहिना गाल = आयु वृद्धि
गला = सुख प्राप्ति
गर्दन = यश-प्राप्ति

दाढ़ी = भयकारक
मूछँ = सम्मान प्राप्ति
भाैैंह (भृकुटी) = धन-हानि
भाैैंह मध्य = धन लाभ
दाहिना नेत्र = बंधु दर्शन
बायाँ नेत्र = हानिकार
ककंठ = शत्रु नाश
पीठ के मध्य = कलह
दाहिना पीठ = सुख-लाभ
बायाँ पीठ = रोग भय
उत्तरोष्ठ = धन हानि
अधरोष्ठ = प्रिय मिलन
दाहिना कंधा = विजय
बाया कंधा = शत्रु भय
दाहिनी भुजा = धन लाभ
बायीं भुजा = राजभय

दाहिनी हथेली = वस्त्र ळाभ
बायीं हथेली = धन हानि
दाहिना करतल = धन सदुपयोग
बायाँ करतल = धन दुरुपयोग
दाहिना स्तन = मनोरंजन लाभ
बायाँ स्तन = हार्दिक क्लेश
उदर पेट = भूषण लाभ
कमर मध्य = अर्थ लाभ
नाभि = मनोरथ लाभ
दाहिना कटि = वस्त्र प्राप्ति
बायाँ कटि = सुख अभाव
दाहिनी जांघ = सुख प्राप्ति
बायाँ जांघ = शारीरिक पीड़ा
दाहिनी घुटना = प्रियागम
बायाँ घुटना = बुद्धि-हानि
दाहिना पैर = भ्रमण-लाभ
बायाँ पैर = रोग क्लेश
दाहिनी एड़ी = यात्रा
बायीं एड़ी = दुखद संवाद
दाहिना पदतळ = ऐश्वर्य प्राप्ति
बाया पदतळ = व्यापार हानि

छिपकली गिरना

पुरुष के बाएं अंगों एवं स्त्री के दाहिने अंग पर छिपकली गिरना अशुभ होता है तथा पुरुष के दाहिने अंग पर एवं स्त्री के बाएं अंग पर छिपकली गिरना सामान्यता शुभ होता है ऐसी अवस्था में उस स्थान को पानी से धो लें अथवा हो सके तो स्नान कर लेना चाहिए |

Daily Hunt के इन खबरो को भी पढ़े